गर्भनिरोध के हार्मोनल प्रभाव : गर्भ निरोधक गोलियां

गर्भनिरोधक गोलियां महिलाओं के लिए रोज खाने वाली गोलियां है। इन्‍हें कम्‍बाइंड ओरल पिल्‍ज़ भी कहते है क्‍योंकि ये कम्‍बाइंड हार्मोनल गर्भनिरोधक विधियों में से एक है। इनमें ईस्‍ट्रो जन और प्रोजेस्‍टरोन दोनों हार्मोन होते हैं।

गोली के पैकेट दो प्रकार के होते है- अठ्रठाइस गोलियों वाले व इक्‍कीस गोलियों वाले।

दोनों तरह के पैकेट में ऊपर की तीन कतारों में हार्मोन वाली इक्‍कीस सफेद गोलियां होती है। अठ्ठाइस गोलियों वाले पैकेट में एक चौथी कतार भी होती है जिसमें आयरन की सात रंगीन गोलियां होती है।

गोलियां कैसे असर करती है ?

गोलियां खाने से महिला के शरीर में -

  • हर माह अंडा नहीं बनता है
  • हर माह गर्भ की तैयारी के लिए गर्भाशय की अंदरूनी परत मोटी नहीं होती
  • गर्भाशय के मुखद्वार पर गाढ़ा तत्‍व जमा हो जाता है जिससे संभोग के समय योनि में छोड़े गये शुक्राणु गर्भाशय में प्रवेश नहीं कर पाते
इसलिए गोलियों का सेवन करने से महिला गर्भ से बची रहती है
 
गर्भनिरोधक गोलियों के लाभ
  • गोली सरल और सुरक्षित तरीका है
  • अगर बिना भूले रोज खाई जाए तो बहुत असरदार होती है
  • इनका इस्‍तेमाल आसान है
  • इनसे संभोग में कोई बाधा नहीं पहुंचती है
  • माहवारी समय से आती है, खून कम बहता है और दर्द कम होता है


गोलियां निम्नलिखित रोगों से बचाव करती है -

  • गर्भाशय की अंदरूनी सतह के कैंसर से (एंडोमीट्रियल कैंसर)
  • अंडाशय के कैंसर से (ओवेरियन कैंसर)
  • पेडू में सूजन से (पैल्विक इन्‍फेमट्री डिजीज)
  • खून की कमी से (आयन डेफीशिएंसी एनीमिया)

 

  • गोलियों की सीमाएं
  • गोली को याद करके रोज खाना पड़ता है
  • हर माह एक नए पैकेट की जरूरत पड़ती है
  • गोली यौन रोगों ओर एच.आई.वी. से बचाव नहीं करती है
  • गोली से दूध्‍ की मात्रा कम हो सकती है इसलिए छः महीने तक बच्‍चे को स्‍तनपान कराने वाली मां को नहीं दी जाती है


गोलियों के साइड इफैक्ट्स

गोली आरंभ करने पर शुरू में दो तीन महीने कुछ छोटी मोटी परेशानियां हो सकती है जैसे -

  • जी मिचलाना/उल्‍टी आना
  • सिरदर्द
  • स्‍तनों में भारीपन और हल्‍का दर्द
  • मासिक चक्र के बीच खून या दाग-धब्बे आना

यह परेशानियां नुकसानदायक नहीं होती है ओर अक्‍सर दो, तीन माह में स्‍वतः ठीक हो जाती है।

गोलियां किन महिलाओं के लिए उचित उपाय है ?

  • जो एक असरदार तरीका चाहती है
  • जो गोलियां याद करके सही तरीके से खा सकती है
  • जिन्‍हें एनीमिया की शिकायत है
  • जिन्‍हें मासिक धर्म संबंधी शिकायतें रहती है, जैसे खून ज्‍यादा आता है, पेट के निचले हिस्‍से में काफी पीड़ा रहती है, मासिक धर्म अनियिमित रूप से होता है, और मासिक धर्म से पूर्व जिन्‍हें खीज उदासी रहती है, स्‍तनों ओर पेट के निचले हिस्‍से में पीड़ा होती है।


गोलियां किन महिलाओं के लिए उचित उपाय नहीं है ?

  • जो छः महीने से कम आयु के बच्‍चे को दूध्‍ पिलाती हों
  • जिन्‍हें वर्तमान में या पिछले तीन माह में लीवर रोग या पीलिया हुआ हो
  • जो टी.बी. या मिर्गी की दवा ले रही हो
  • जिस स्‍त्री को डायबटीज हो (मधुमेह)
  • जो 35 वर्ष से अधिक आयु की है और सिगरेट बीड़ी पीती है

महिला गोलियां कब लेना शुरू करें ?

  • माहवारी शुरू होने पर पहले से पांचवे दिन तक कभी भी गोली लेना शुरू करे – (रक्‍तस्राव कितने दिन तक होगा इस बात से गोली शुरू करने का कोई संबंध नहीं है)
  • गर्भपात के तुरंत बाद उसी दिन से गोली लेना शुरू कर सकती है
  • अगर स्तनपान करा रही है तो प्रसव के छः महीने बाद ही गोली शुरू करे
  • अगर किसी कारणवश वह स्‍तनपान नहीं करा रही है तो प्रसव के तीन सप्‍ताह बाद गोली शुरू कर सकती है

गर्भनिरोधक गोलियां खाने का सही तरीका

  • गोली खाना सही समय पर शुरू करें
  • रोज एक गोली ले, अच्‍छा हो कि एक ही समय पर जैसे रात को खाने के बाद
  • गोली रोज ले, संभोग हो या ना हो। यदि माहवारी आ रही हो, तो भी गोली अवश्‍य लें

गोलियों का एक पैकेट समाप् होने पर अगला पैकेट कब शुरू करें ?

अगर अठ़ठाइस गोली वाला पैकेट है तो अगला पैकेट कब शुरू करें ?

रोज एक गोली लें ओर जब पैकेट खत्‍म हो जाए तो अगले दिन से ही नया पैकेट शुरू कर दें।

इस प्रकार गोली के दो पैकेट के बीच एक दिन का भी नागा ना करें।

अगर इक्कीस गोली वाला पैकेट है तो अगला पैकेट कब शुरू करें?

इक्‍कीस गोलियां समाप्‍त होने के बाद एक सप्‍ताह, यानि अगले सात दिन, तक गोली ना खाएं।

सात दिन बाद फिर नया पैकेट शुरू कर दें।

बाज़ार में अनेक ब्रांड की गर्भनिरोधक गोलियां उपलब्ध हैं जिनके संघटकों और प्रभावक्षमता में फर्क होता है। आपको इस बारे में अपने गायनाकोलॉजिस्टि से बात करनी चाहिए कि आपके लिए कौन सी  गर्भनिरोधक गोली ठीक रहेगी और गोलियां खाने के नियम का कड़ाई से पालन करें। इसमें असफलता दर एक से तीन प्रतिशत तक है।

अनेक ब्रांड (नाम) की कम्‍बाइंड ओरल पिल्‍ज  जैसे -

फेमिलौन, नौवेलौन, पर्ल, च्‍वाइस, एलोजन,ओवराल एल, खुशी, माला-डी, लोएट, यासमिन, जन्‍या, तराना

माला-एन सरकार की ओर से मुफ्त उपलब्‍ध्‍ है।


Customer Service

8130-249393
Mon-Sat 9am to 6pm